Listen and Watch अन्त तरणा रे संत सिंगाजी भजन लिरिक्स video on e akhabaar. We have taken this अन्त तरणा रे संत सिंगाजी भजन लिरिक्स bhajan lyrics from internet.

अन्त तरना अन्त तरना,


अन्त तरणा रे,


निज नाम का सुमरण करणा,


अंतर तरना रे।।





रूप स्वरूप कि बनी सुंदरी,



माया देख नही भूलना,


यो परदेसी फिर नही आवे,


लख चौरासी फिरना,


अन्त तरना अन्त तरना,


अन्त तरना रे,


निज नाम का सुमरण करणा,


अंतर तरना रे।।





व्यर्थ जनम गया रे बहु तेरा,



माया मे लुभाना रे,


श्रवण नाम नही कियो हरि को,


भेष धरि धरि मरणा,


अन्त तरना अन्त तरना,


अन्त तरना रे,


निज नाम का सुमरण करणा,


अंतर तरना रे।।





धन दौलत ओर माल खजाना,



पल मे होय वीराना,


अल्टी पवन चले घट भीतर,


उनका करो ठिकाना,


अन्त तरना अन्त तरना,


अन्त तरना रे,


निज नाम का सुमरण करणा,


अंतर तरना रे।।





साधु के तो अधीन रहना,



उपाय कभी नही करना,


कहे जन सिंगा सुनो भाई साधो,


रहो राम की शरणा,


अन्त तरना अन्त तरना,


अन्त तरना रे,


निज नाम का सुमरण करणा,


अंतर तरना रे।।





अन्त तरना अन्त तरना,



अन्त तरणा रे,


निज नाम का सुमरण करणा,


अंतर तरना रे।।

गायक – संतोष जी महाराज।


प्रेषक – घनश्याम बागवान सिद्दीकगंज।


7879338198


उस घर के हर दरवाजे पर, खुशियाँ पहरा देती है, जिस घर में बाबोसा की, दिव्य ज्योती जलती है।। उस घर की चौखट पर, जय बाबोसा लिखा होगा, कही पे…

कहीं देख दुखिया, दुखी तेरा मन है, यही तो भजन है, यही तो भजन है।bd। Kahi dekh dukhiya dukhi tera man hai ये भी देखे – आदत बुरी सुधार लो।…

गहरी नर्मदा न गेहरो पानी, ओ गहरी नर्मदा ने गेहरो पानी, देखी न जीव घबराये हो, मैय्या पार लगाऊजो।। काम क्रोध काच मच बसत है, ए लोभ को मगर देखाय…

ये भगवा रंग, रंग रंग, जिसे देख जमाना हो गया दंग, जिसे ओढ़ के नाचे रे बजरंग, मुझे चढ़ गया भगवा रंग रंग, मुझे चढ़ गया भगवा रंग रंग।। ये…

Full video and Lyrics of अन्त तरणा रे संत सिंगाजी भजन लिरिक्स on our website. Please Share with friends.

Categorized in:

Tagged in: