रोशन जमाल-ए-यार से है अंजुमन तमाम – हसरत मोहानी शायरी

Read शायरी of रोशन जमाल-ए-यार से है अंजुमन तमाम – हसरत मोहानी on e akhabaar, Translations and Full wording of रोशन जमाल-ए-यार से है अंजुमन तमाम – हसरत मोहानी शायरी

Roshan jamal-e-yaar se hai – Listen to this beautiful ghazal that is penned by Hasrat Mohani

Hasrat Mohani, was an Indian activist, freedom Fighter in the Indian independence movement and a noted poet of the Urdu language.

“>Hasrat Mohani. Various singer has sung this ghazal over the time. Presenting here versions sung by Mehdi Hasan

Mehdi Hasan Khan was a Pakistani ghazal singer and playback singer for Lollywood.

“>Mehdi Hasan.

रोशन जमाल-ए-यार से है अंजुमन तमाम

रोशन जमाल-ए-यार से है अंजुमन तमाम

दहका हुआ है आतिश-ए-गुल से चमन तमाम

हैरत गुरूर-ए-हुस्न से शोख़ी से इज़तराब

दिल ने भी तेरे सीख लिए हैं चलन तमाम

अल्लाह रे हुस्न-ए-यार की ख़ूबी के खु़द-ब-खु़द

रंगीनियों में डूब गया पैरहन तमाम

देखो तो हुस्न-ए-यार की जादू निगाहियाँ

बेहोश इक नज़र में हुई अंजुमन तमाम

Roshan jamal-e-yaar se hai

Roshan jamal-e-yaar se hai anjuman tamaam

Dahka hua hai aatish-e-gul se chaman tamaam

Allah re jism-e-yaar ki khoobi ke khud-ba-khud

Ranginiyon mein doob gaya pairaahan tamaam

Dekho to chashm-e-yaar ki jaadoo nighaayen

Behosh ik nazar mein huyee anjuman tamaam

  • Listen to this beautiful ghazal in the voice of Mehdi Hasan on – Youtube Music.

Submit the Corrections in रोशन जमाल-ए-यार से है अंजुमन तमाम – हसरत मोहानी शायरी at our page