सुनिए सर पे चुनरिया लाल और हाथों में मेहंदी रचाई है माता भजन

Check सर पे चुनरिया लाल और हाथों में मेहंदी रचाई है माता भजन from Religious Bhajan section on e akhabaar

सर पे चुनरिया लाल,
और हाथों में मेहंदी रचाई है,
भक्तो के घर माँ आई है,
सर पे चूनरिया लाल,
सर पे चूनरिया लाल,
और हाथों में मेहंदी रचाई है,
भक्तो के घर माँ आई है,
सर पे चूनरिया लाल।।

तर्ज – एक तेरा साथ हमको।
(कीर्तन की है रात)



मेरे घर आँगन में,

मैया पधारी है,
मेरी तो मौज है,
मैया को पा करके,
ऐसा लगा जैसे,
दिवाली रोज है,
प्यार का उपहार,
प्यार का उपहार,
भक्तो के लिए माँ लाइ है,
भक्तो के घर माँ आई है,
सर पे चूनरिया लाल।।



भूलकर सारी,

दुःख और तकलीफें,
मैया का ध्यान धरो,
ठाठ कर देगी,
गर मान जाएगी,
जरा गुणगान करो,
मैया के दरबार,
मैया के दरबार,
में होती सबकी सुनवाई है,
भक्तो के घर माँ आई है,
सर पे चूनरिया लाल।।



कर दो दया इतनी,

जब भी बुलाऊँ मैं,
लगे तू पास है,
‘शिवम’ तेरा मेरा,
नाता पुराना है,
ये रिश्ता खास है,
रखकर के विश्वास,
रखकर के विश्वास जिसने,
माँ की ज्योत जगाई है,
Bhajan Diary Lyrics,
भक्तो के घर माँ आई है,
सर पे चूनरिया लाल।।



सर पे चुनरिया लाल,

और हाथों में मेहंदी रचाई है,
भक्तो के घर माँ आई है,
सर पे चूनरिया लाल,
सर पे चूनरिया लाल,
और हाथों में मेहंदी रचाई है,
भक्तो के घर माँ आई है,
सर पे चूनरिया लाल।।

Singer – Krishna Priya


Post your comments about सर पे चुनरिया लाल और हाथों में मेहंदी रचाई है माता भजन below.