सुनिए हमारे साथ श्री महाकाल तो किस बात की चिंता लिरिक्स

Check हमारे साथ श्री महाकाल तो किस बात की चिंता लिरिक्स from Religious Bhajan section on e akhabaar

हमारे साथ श्री महाकाल,

दोहा – कर्ता करे ना कर सके,
शिव करे सो होय,
तीन लोक नौ-खंड में,
शिव से बड़ा ना कोय।



हमारे साथ श्री महाकाल,

तो किस बात की चिंता,
शरण में रख दिया जब माथ,
तो किस बात की चिंता,
हमारे साथ श्री महांकाल,
तो किस बात की चिंता।।



लगाई है लगन शिव से,

नहीं फिर जग से मोह माया,
मेरे संग संग में रहती है,
मेरे महाकाल की छाया,
की बनती है वहां हर बात,
तो किस बात की चिंता,
हमारे साथ श्री महांकाल,
तो किस बात की चिंता।।



मेरे महाकाल के दर पे,

संवर जाती है तकदीरे,
प्रभु का नाम लेते ही,
बदल जाती है तासीरें,
मेरे महाकाल रखते है,
हर एक के काम की चिंता,
हमारे साथ श्री महांकाल,
तो किस बात की चिंता।।



लगा ले तू लगन शिव से,

के हो जा जग से बेगाना,
मुक्कदर अपना बनवा ले,
बन महाकाल दीवाना,
के हर लेंगे मेरे स्वामी,
तेरे हर काल की चिंता,
Bhajan Diary Lyrics,
हमारे साथ श्री महांकाल,
तो किस बात की चिंता।।



हमारे साथ श्री महांकाल,

तो किस बात की चिंता,
शरण में रख दिया जब माथ,
तो किस बात की चिंता,
हमारे साथ श्री महांकाल,
तो किस बात की चिंता।।

Singer – Shahnaaz Akhtar


Post your comments about हमारे साथ श्री महाकाल तो किस बात की चिंता लिरिक्स below.